Posted in Do You Know, Geography, Rajasthan, Rajasthan GK

बांसवाड़ा जिला

image

#Banswara
1. महत्वपूर्ण तथ्य👉👉
🔻🔻🔻🔻🔻
• बांसवाड़ा जिले का कुल क्षेत्रफल = 5037 किमी²
• बांसवाड़ा जिले की जनसंख्या (2011) = 17,98,194
• बांसवाड़ा जिले का संभागीय मुख्यालय = उदयपुर

🔷🔷
2. भौगोलिक स्थिति 👉👉
🔻🔻🔻🔻🔻
• बांसवाड़ा राजस्थान के दक्षिणी भाग में स्थित एक शहर है।
• बांसवाड़ा की भौगोलिक स्थिति: 23°33′N 74°27′E / 23.55°N 74.45°E
• यह गुजरात और मध्य प्रदेश दोनों राज्यों की सीमा के निकट है।
• बासंवाडा जिला राजस्थान के दक्षिणी भाग मे गुजरात/मध्य प्रदेश की सीमा से लगता हुआ जिला है। इसे राजस्थान का चेरापूंजी भी कहा जाता है।
• बांस के वनों की अधिकता के कारण इसका नाम बांसवाड़ा पड़ा।
• बांसवाड़ा के प्रमुख कस्बे कुशलगढ़, परतापुर, बागीदौरा, घाटोल, अरथुना हॆ.

🔷🔷
3. इतिहास👉👉
🔻🔻🔻🔻🔻
• इस क्षेत्र का गठन 1530 में बांसवाड़ा रजवाड़े के रूप में किया गया था और बांसवाड़ा शहर इसकी राजधानी था।
• 1948 में राजस्थान राज्य में विलय होने से पहले यह मूल डूंगरपुर राज्य का एक भाग था।
• जिले का मुख्यालय बांसवाड़ा है और भूतपूर्व बांसवाड़ा रियासत के प्रथम प्रमुख जगमाल द्वारा अथवा भील सरदार बांसिया भील द्वारा बसाया गया बताया जाता है।
• इसे “सौ द्वीपों का नगर” भी कहते हैं क्योंकि यहाँ से होकर बहने वाली माही नदी में अनेकानेक से द्वीप हैं।

🔷🔷
4. कला एवं संस्कृति👉👉
🔻🔻🔻🔻🔻
• बांसवाड़ा में मुख्यतः वागडी भाषा बोली जाती हॆ
• बांसवाड़ा मुख्यतया आदिवासी क्षेत्र में स्थित है
• धार्मिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से महत्वपूर्ण यह शहर अब राजस्थान के खूबसूरत और मनोहारी शहरों में गिना जाने लगा है।
• मां त्रिपुरा सुंदरी मंदिर शताब्दियों से विशिष्ट शक्ति साधकों का प्रसिद्ध उपासना केन्द्र रहा है। इस शक्तिपीठ पर दूर-दूर से लोग आकर शीष झुकाते है। नवरात्रि पर्व पर इस मंदिर के प्रागण में प्रतिदिन विशेष कार्यक्रम होते है, जिन्हें विशेष समारोह के रूप में मनाया जाता है।

🔷🔷
5. शिक्षा 👉👉
🔻🔻🔻🔻🔻
• यहाँ सुखाड़िया विश्वविद्यालय से संलग्न अनैक महाविद्यालय हैं
• प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा हेतु सरकारी स्कूल ही प्रमुख हैं

🔷🔷
6. खनिज एवं कृषि 👉👉
🔻🔻🔻🔻🔻
• बांसवाड़ा की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि एवं खनन पर आधारित है।
• मार्बल, सोना एवं अन्य खनिज बांसवाड़ा के मुख्य खनिज हैं

🔷🔷
7. प्रमुख स्थल 👉👉
🔻🔻🔻🔻🔻
• राजस्थान में बांसवाड़ा से लगभग 14 किलोमीटर दूर तलवाड़ा ग्राम से मात्र 5 किलोमीटर की दूरी पर ऊंची रौल श्रृखलाओं के नीचे सघन हरियाली की गोद में उमराई के छोटे से ग्राम में माताबाढ़ी में प्रतिष्ठित है मां त्रिपुरा सुंदरी।
• शक्तिपुरी, शिवपुरी तथा विष्णुपुरी नामक इन तीन पुरियों में स्थित होने के कारण देवी का नाम त्रिपुरा सुन्दरी पड़ा।
• गुजरात, मालवा और मारवाड़ के शासक त्रिपुरा सुन्दरी के उपासक थे।
• अब्दुल्ला पीर दरगाह निकटस्थ ग्राम भवानपुरा में स्थित है। इस स्थान पर प्रतिवर्ष बोहरा जाति के लोग बड़ी संख्या में एकत्रित होते हैं।
• माही परियोजना बांध की नहरों में पानी वितरण के लिए शहर के पास निर्मित कागदी पिक-अप-वियर है जो सैलानियों के लिए आकर्षण का मुख्य केन्द्र है।

🔷🔷
8. नदी एवं झीलें 👉👉
🔻🔻🔻🔻🔻
• झीलें: आनंद सागर झील
• नदियाँ : माही नदी

🔷🔷
9. परिवहन और यातायात👉👉
🔻🔻🔻🔻🔻
• बांसवाड़ा पहुँचने के लिए सबसे बेहतर विकल्प सड़क मार्ग है।
• राष्ट्रीय राजमार्ग 8 से निजी वाहन द्वारा भी उदयपुर या अहमदाबाद होते हुए बांसवाड़ा पहुँचा जा सकता है।
• बांसवाड़ा अभी तक रेल मार्ग से जुड़ा हुआ नहीं है, लेकिन बांसवाड़ा-रतलाम रेल लाइन प्रस्तावित है
• निकटतम हवाई अड्डा, उदयपुर एवं अहमदाबाद है ।

🔷🔷
10. उद्योग और व्यापार👉👉
🔻🔻🔻🔻🔻
• जंगल बहूतायत हॆ, लकडी, वनस्पति प्रचुर मात्रा में हॆ
• बांसवाड़ा में खनन एवं कपड़ा उद्योग एक प्रमुख व्यवसाय है

*****

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s