Posted in हिन्दी व्याकरण Hindi, Hindi

शब्द एवं शब्द विचार

image

वर्णों अथवा अक्षरों का ऐसा समूह जिसका कोई अर्थ हो, शब्द कहलाता है । जैसे – प् + उ + स् + त् + अ + क् + अ = पुस्तक ।
यह शब्द है, क्योंकि इसका कुछ अर्थ है ।

वर्ण विच्छेद अर्थात शब्द के वर्णों को अलग-अलग करके लिखना । जैसे – पुस्तकालय – प् + उ + स् + त् + अ + क् + आ + ल् + अ + य् + अ

शब्द दो प्रकार के होते हैं – 1. सार्थक, 2. निरर्थक ।

सार्थक वे शब्द हैं, जिनका कोई अर्थ होता है । जैसे – बकरी, दौड़ना, आदि ।

निरर्थक वे शब्द हैं, जिनका कोई अर्थ न हो । जैसे – फड़-फड़, धर-धर आदि ।
व्याकरण में निरर्थक शब्दों का कोई महत्व नहीं होता ।

व्युत्पत्ति की दृष्टि से शब्दों के तीन भेद हैं –
1. रूढ़ -जिन शब्दों के खंडों का कोई अर्थ न हो, वे रूढ़ कहलाते हैं । जैसे – कलम, मेज़, कुर्सी, दाल, कुत्ता, आदि ।
यदि इनके खंड किए जाएँ तो इन खंडों का कोई अर्थ नहीं होगा ।

2. यौगिक – दो या दो से अधिक शब्दों अथवा शब्दांशों के योग से बने शब्द यौगिक कहलाते हैं । जैसे – जयमाला = जय + माला, दालरोटी = दाल + रोटी, विद्यालय = विद्या + आलय, कुपुत्र = कु + पुत्र, स्वदेश = स्व + देश ।

3. योगरूढ़ -जो शब्द यौगिक होने पर भी किसी विशेष अर्थ को ही प्रकट करें । जैसे – नीरज = नीर + ज ।
नीर का अर्थ है जल और ज – उत्पन्न अर्थात जल में उत्पन्न । जल में अनेक चीजें उत्पन्न होती हैं, पर नीरज ‘कमल’ के अर्थ में प्रयुक्त होता है ।

उत्पत्ति की दृष्टि से शब्द चार प्रकार के होते हैं –
1. तत्सम – जो शब्द संस्कृत से ज्यों-के-त्यों हिन्दी में आ गए हैं । जैसे – नेत्र, शरीर, विद्या, फल, मनुष्य आदि ।

2. तद्भव – जो शब्द संस्कृत से रूप बदलकर हिन्दी में आ गए हों । जैसे – दाँत (दंत), माथा (मस्तक), खेत (क्षेत्र), बहु (वधू), पूत (पुत्र), दोहता (दौहित्र) आदि ।

कुछ अन्य तत्सम-तद्भव शब्द
तत्सम  – तद्भव                                            तत्सम – तद्भव
अंध अंधा                                                     अग्नि आग
अंधकार अँधेरा                                             अर्ध आधा
उपरि उपर                                                   उज्जवल उजाला
उष्ट्र उँट                                                         कर्ण कान
कर्म काम                                                     कुपुत्र कपूत
क्षेत्र खेत                                                       गृह घर
ग्राम गाँव                                                     दंत दाँत
दीपक दीया                                                  नव नया
नृत्य नाच                                                    पत्र पत्ता
मयूर मोर                                                     वधू बहू
शिक्षा सीख                                                   सर्प साँप
हस्त हाथ                                                     हास हँसी

3. देशी या देशज – वे शब्द, जो भारत की किसी भी भाषा से हिन्दी में आ गए हैं । जैसे – इडली, डोसा, समोसा, चमचम, गुलाबजामुन, लड्डु, लोटा, खिचड़ी आदि ।

4. विदेशी – जो शब्द भारत से बाहर की किसी भाषा से हिन्दी में आ गए हैं, विदेशी कहलाते हैं । ये विदेशी शब्द उर्दू, अरबी, फारसी,अंग्रेजी, पुर्तगाली, तुर्की, फ्रांसीसी, ग्रीक आदि अनेक भाषाओं से आए हैं । जैसे – जिस्म, शरीफ, मदरसा, अमीर, बाल्टी, टिकट, बटन, डॉक्टर, कालीन, कूपन, सुरंग आदि ।

प्रयोग के आधार पर शब्दों के दो भेद होते हैं –
1.विकारी – वे शब्द, जिनका रूप लिंग, वचन, कारक, काल आदि के आधार पर बदल जाता है । संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण और क्रिया ये विकारी शब्द हैं ।

2.अविकारी – वे शब्द, जिनके रूप में कभी कोई परिवर्तन नहीं होता । इन्हें अव्यय भी कहते हैं । क्रिया-विशेषण, समुच्चय बोधक, संबंध बोधक और विस्मयादि बोधक अविकारी शब्द हैं ।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s