Posted in Amazing Facts, राजस्थानी

राजस्थान

*आना कभी मेरे देश मै आपको राजस्थान दिखाती हूँ*
आँखों के दरमियान मैं

गुलिस्तां दिखाती हुँ,

आना कभी मेरे देश मैं आपको राजस्थान

दिखाती हूँ।

खेजड़ी के साखो पर लटके फूलो की कीमत

बताती हूँ।

मै साम्भर की झील से देखना कैसे नमक

उठाती हूँ।

मै शेखावाटी के रंगो से

पनपी चित्रकला दिखाती हूँ।

महाराणा प्रताप के शौर्य

की गाथा सुनाती हूँ।

पद्मावती और हाड़ी रानी का जोहर

बताती हूँ।

पग गुँघरु बाँध मीरा का मनोहर

दिखाती हूँ।

सोने सी माटी मे पानी का अरमान

बताती हूँ।

आना कभी मेरे देश मै आपको राजस्थान

दिखाती हूँ।

हिरन की पुतली मे चाँद के दर्शन कराती हूँ।

चंदरबरदाई के

शब्दों की व्याख्या सुनाती हूँ।

मीठी बोली, मीठे पानी मे जोधपुर की सैर

कराती हूँ।

कोटा, बूंदी, बीकानेर और हाड़ोती की मै

मल्हार गाती हूँ।

पुष्कर तीर्थ कर के मै चिश्ती को चाद्दर

चढ़ाती हूँ।

जयपुर के हवामहल में गीत मोहब्बत के गाती हूँ।

जीते सी इस धरती पर स्वर्ग का मैं वरदान

दिखाती हूँ।

आना कभी मेरे देश मै आपको राजस्थान

दिखाती हूँ।

कोठिया दिखाती हूँ, राज

हवेली दिखाती हूँ।

नज़रे ठहर न जाए कही मै आपको कुम्भलगढ़

दिखाती हूँ।

घूंघट में जीती मर्यादा और गंगानगर

का मतलब समझाती हूँ।

तनोट माता के मंदिर से मै विश्व

शांति की बात सुनाती हूँ।

राजिया के दोहो से लेके, जाम्भोजी के

उसूल पढ़ाती हूँ।

होठो पे मुस्कान लिए, मुछो पे ताव देते

राजपूत की परिभाषा बताती हूँ।

सिक्खो की बस्ती मे, पूजा के बाद अज़ान

सुनाती हूँ।

आना कभी मेरे देश मै आपको राजस्थान

दिखाती हूँ।

*जय जय राजस्थान*
*राजस्थान दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं*

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s