सेकंड ग्रेड शिक्षक भर्ती परीक्षा 2016

*अजमेर, सेकंड ग्रेड शिक्षक भर्ती परीक्षा 2016,परीक्षा कार्यक्रम में बड़ा बदलाव,सभी विषयों के पेपर होंगे ऑनलाइन,जून में आयोजित होगी परीक्षा*

Advertisements
Posted in CBSE, Class 10, Education System, National, RBSE Ajmer

नई शिक्षा नीति 2017- 2018का इनपुट ड्राफ्ट

*बड़ी खबर: शिक्षा नीति 2017-18 लागू होने के बाद, 1st ग्रेड , 2nd ग्रेड के लिए भी टेट में उत्तीर्ण होना आवश्यक**बड़ी खबर*

*शिक्षा नीति 2017-18 लागू होने क बाद *1st ग्रेड , 2nd ग्रेड के लिए भी टेट में उत्तीर्ण होना आवश्यक*

🔘: *नई शिक्षा नीति 2017- 2018का इनपुट ड्राफ्ट*

🔰🔰🔰🔰🔰🔰🔰🔰

***********************

*1-आंगनबाड़ी को प्री-प्राइमरी स्कूल में बदला जायेगा। राज्य एक साल के भीतर कोर्स बनायेंगे तथा शिक्षकों का अलग कैडर बनायेंगे।*

*2-सभी प्राइमरी स्कूल प्री-प्राइमरी स्कूल से सुसज्जित होंगे। आगनबाड़ी केंद्रों को स्कूल कैम्पस में स्थापित किया जायेगा।*

*3-अधिगम सुनिश्चित किया जायेगा।*

*4-नो डिटेंशन अब कक्षा 05 तक होगा।*

*5-RTE को 12 वीं तक ले जाया जायेगा।*

*6-विज्ञान, गणित तथा अंग्रेजी का समान राष्ट्रीय पाठ्यक्रम होगा। सामाजिक विज्ञान का एक हिस्सा समान होगा, शेष का निर्माण राज्य करेंगे।*

The Academic Partner Bali

*7-कक्षा 6 से ICT आरंभ होगी।*

*8-कक्षा 6 से विज्ञान सीखने के लिए प्रयोगशाला की सहायता ली जायेगी।*

*9-गणित, विज्ञान तथा अंग्रेजी के कक्षा 10 हेतु दो लेबल होंगे-A तथा B*

*10-कक्षा 10 व 12 में बोर्ड परीक्षा अनिवार्य।*

*11-ICT का शिक्षण तथा अधिगम सुनिश्चित करने हेतु प्रयोग।*

*12-विद्यालय के कार्यों का कम्प्यूटीकरण तथा शिक्षकों-छात्रों की उपस्थिति की ऑनलाइन मॉनिटरिंग।*

*13-राज्यों में शिक्षकों की नियुक्ति के लिये अलग से ‘शिक्षक भर्ती आयोग’। नियुक्ति पारदर्शी तथा मैरिट के आधार पर होगी।*

*14-सभी रिक्त पद भरे जाएं। प्रधानाचार्यों के लिये लीडरशिप ट्रेनिंग अनिवार्य।*

*15-राष्ट्रीय स्तर पर ‘टीचर एजुकेशन विश्वविद्यालय’ की स्थापना।*

*16-राष्ट्रीय पुरस्कारों को राज्य तथा जिला स्तर तक लाया जाये। अनुशंसा में SMC की महत्वपूर्ण भूमिका।*

*17-हर पांच साल में शिक्षकों को एक परीक्षा देनी होगी। इसे उनके प्रमोशन तथा इन्क्रीमेंट से जोड़ा जायेगा।*

*18-अगर राज्य चाहें तो कक्षा 05 तक मातृभाषा, स्थानीय तथा क्षेत्रीय भाषा को पढाई का माध्यम बना सकते हैं।*

*19-GDP का 6% शिक्षा पर खर्च करने के लक्ष्य को पूरा करने की कोशिश हो।*

*20-नयी संस्थाओं को खोलने के बजाय मौजूदा शिक्षण संस्थाओं को मजबूत किया जाये।*

*21-मिड डे मील का दायित्व शिक्षकों के ऊपर से हटाकर महिला स्वयं सहायता समूहों को दिया जायेगा। भोजन बनाने की केंद्रिकत प्रणाली विकसित की जायेगी।

Posted in हिन्दी साहित्य, CBSE, Class 10, Education System, Hindi, Psychology, RBSE Ajmer, RPSC, Spiritual

एक शिक्षक की कलम से

प्रिय 
      माता-पिता,

परीक्षाऔ का दौर लगभग समाप्ति की ओर  है।

अब आप अपने बच्चों के
रिजल्ट को लेकर
चिंतित हो रहे होंगे ।

लेकिन कृपया याद रखें, 
वे सभी छात्र
जो परीक्षा में शामिल हो रहे हैं, 
इनके ही बीच में

कई कलाकार भी हैं, 
जिन्हें गणित में पारंगत होना 
जरूरी नहीं है।

इनमें अनेकों उद्यमी भी हैं,
जिन्हें इतिहास या 
अंग्रेजी साहित्य में 
कुछ कठिनाई 
महसूस होती होगी, 
लेकिन ये ही आगे चलकर 
इतिहास बदल देंगे I

इनमें संगीतकार भी हैं
जिनके लिये
रसायनशास्त्र के अंक 
कोई मायने नहीं रखते ।

इनमें खिलाड़ी भी हैं,
जिनकी फिजिकल फिटनेस
फिजिक्स के अंकों से ज्यादा
महत्वपूर्ण हैं ।

यदि आपका बच्चा 
मैरिट अंक प्राप्त करता है
तो ये बहुत अच्छी बात है।

लेकिन यदि वह 
ऐसा नहीं कर पाता तो 
उससे कृपया
उसका आत्मविश्वास न छीनें |

उसें बतायें कि 
सब कुछ ठीक है 
और ये सिर्फ परीक्षा ही है ।

वह जीवन में 
इससे कहीं ज्यादा 
बड़ी चीजों को 
करने के लिये बना है |

इस बात से 
कोई फर्क नहीं पड़ता कि 
उसने कितना स्कोर किया है।

उसे प्यार दें 
और उसके बारे में 
अपना फैसला न सुनायें ।

यदि आप उसे 
खुशमिज़ाज़ बनाते हैं 
तो वो कुछ भी बने 
उसका जीवन सफल है,

यदि वह
खुशमिज़ाज़ नहीं है
तो वो कुछ भी बन जाए, 
सफल कतई नहीं है ।

कृपया ऐसा करके देखें, 
आप देखेंगे कि आपका बच्चा
दुनिया जीतने में सक्षम है।

एक परीक्षा या
एक 90% की मार्कशीट
आपके बच्चे के 
सपनों का पैमाना नहीं है ।

✍ एक अध्यापक

इसको ज्यादा से ज्यादा 
शेयर करे
ताकि कोई बच्चा आत्महत्या
जैसी सोच से भी दूर रहे ।

Posted in CBSE, Class 10, Education System, General Knowledge, Psychology, RPSC

शिक्षा मनोविज्ञान

=> मनोविज्ञान के जनक —- विलियम जेम्स

=> आधुनिक मनोविज्ञान के जनक —— विलियम जेम्स

=> प्रकार्यवाद साम्प्रदाय के जनक —– विलियम जेम्स

=> आत्म सम्प्रत्यय की अवधारणा —— विलियम जेम्स

http://www.facebook.com/caac00007

=> शिक्षा मनोविज्ञान के जनक —- थार्नडाइक

=> प्रयास एवं त्रुटि सिद्धांत —- थार्नडाइक

=> प्रयत्न एवं भूल का सिद्धांत —– थार्नडाइक

=> संयोजनवाद का सिद्धांत ——- थार्नडाइक

=> उद्दीपन-अनुक्रिया का सिद्धांत ——- थार्नडाइक

=> S-R थ्योरी के जन्मदाता ——- थार्नडाइक

=> अधिगम का बन्ध सिद्धांत ——- थार्नडाइक

=> संबंधवाद का सिद्धांत —— थार्नडाइक

=> प्रशिक्षण अंतरण का सर्वसम अवयव का सिद्धांत —– थार्नडाइक

=> बहु खंड बुद्धि का सिद्धांत —–  थार्नडाइक

http://www.facebook.com/caac00007

=> बिने-साइमन बुद्धि परीक्षण के प्रतिपादक —- बिने एवं साइमन

=> बुद्धि परीक्षणों के जन्मदाता —— बिने

=> एक खंड बुद्धि का सिद्धांत —- बिने

http://www.facebook.com/caac00007

=> दो खंड बुद्धि का सिद्धांत—-  स्पीयरमैन

=> तीन खंड बुद्धि का सिद्धांत —– स्पीयरमैन

=> सामान्य व विशिष्ट तत्वों के सिद्धांत के प्रतिपादक —— स्पीयरमैन

=> बुद्धि का द्वय शक्ति का सिद्धांत ——- स्पीयरमैन

http://www.facebook.com/caac00007

=> त्रि-आयाम बुद्धि का सिद्धांत —- गिलफोर्ड

=> बुद्धि संरचना का सिद्धांत —- गिलफोर्ड

=> समूह खंड बुद्धि का सिद्धांत —– थर्स्टन

=> युग्म तुलनात्मक निर्णय विधि के प्रतिपादक —- थर्स्टन

=> क्रमबद्ध अंतराल विधि के प्रतिपादक —-  थर्स्टन

http://www.facebook.com/caac00007

=> समदृष्टि अन्तर विधि के प्रतिपादक —– थर्स्टन व चेव

=> न्यादर्श या प्रतिदर्श(वर्ग घटक) बुद्धि का सिद्धांत —- थॉमसन

=> पदानुक्रमिक(क्रमिक महत्व) बुद्धि का सिद्धांत —- बर्ट एवं वर्नन

=> तरल-ठोस बुद्धि का सिद्धांत —– आर. बी. केटल

=> प्रतिकारक (विशेषक) सिद्धांत के प्रतिपादक —— आर. बी. केटल

=> बुद्धि ‘क’ और बुद्धि ‘ख’ का सिद्धांत —–  हैब

=> बुद्धि इकाई का सिद्धांत —— स्टर्न एवं जॉनसन

=> बुद्धि लब्धि ज्ञात करने के सुत्र के प्रतिपादक —– विलियम स्टर्न

http://www.theacademicpartner.wordpress.com

=> संरचनावाद साम्प्रदाय के जनक —– विलियम वुण्ट

=> प्रयोगात्मक मनोविज्ञान के जनक —– विलियम वुण्ट

=> विकासात्मक मनोविज्ञान के प्रतिपादक —– जीन पियाजे

=> संज्ञानात्मक विकास का सिद्धांत —— जीन पियाजे

=> मूलप्रवृत्तियों के सिद्धांत के जन्मदाता —– विलियम मैक्डूगल

=> हार्मिक का सिध्दान्त —– विलियम मैक्डूगल

=> मनोविज्ञान को मन मस्तिष्क का विज्ञान —– पोंपोलॉजी

=> क्रिया प्रसूत अनुबंधन का सिध्दान्त —– स्किनर

=> सक्रिय अनुबंधन का सिध्दान्त —– स्किनर

http://www.facebook.com/caac00007

=> अनुकूलित अनुक्रिया का सिद्धांत —- इवान पेट्रोविच पावलव

=> संबंध प्रत्यावर्तन का सिद्धांत —— इवान पेट्रोविच पावलव

=> शास्त्रीय अनुबंधन का सिद्धांत —- इवान पेट्रोविच पावलव

=> प्रतिस्थापक का सिद्धांत —— इवान पेट्रोविच पावलव

=> प्रबलन(पुनर्बलन) का सिद्धांत —— सी. एल. हल

=> व्यवस्थित व्यवहार का सिद्धांत —— सी. एल. हल

=> सबलीकरण का सिद्धांत —— सी. एल. हल

=> संपोषक का सिद्धांत —– सी. एल. हल

=> चालक / अंतर्नोद(प्रणोद) का सिद्धांत ——-  सी. एल. हल

http://www.facebook.com/caac00007

=> अधिगम का सूक्ष्म सिद्धान्त —– कोहलर

=> सूझ या अन्तर्दृष्टि का सिद्धांत ——  कोहलर, वर्दीमर, कोफ्का

=> गेस्टाल्टवाद सम्प्रदाय के जनक —–  कोहलर, वर्दीमर, कोफ्का

=> क्षेत्रीय सिद्धांत —— लेविन

=> तलरूप का सिद्धांत —— लेविन

=> समूह गतिशीलता सम्प्रत्यय के प्रतिपादक —– लेविन

http://www.facebook.com/caac00007

=> सामीप्य संबंधवाद का सिद्धांत —– गुथरी

=> साईन(चिह्न) का सिद्धांत —– टॉलमैन

=> सम्भावना सिद्धांत के प्रतिपादक —— टॉलमैन

=> अग्रिम संगठक प्रतिमान के प्रतिपादक —— डेविड आसुबेल

=> भाषायी सापेक्षता प्राक्कल्पना के प्रतिपादक —–  व्हार्फ

=> मनोविज्ञान के व्यवहारवादी सम्प्रदाय के जनक ——— जोहन बी. वाटसन

=> अधिगम या व्यव्हार सिद्धांत के प्रतिपादक —— क्लार्क

=> सामाजिक अधिगम सिद्धांत के प्रतिपादक —- अल्बर्ट बाण्डूरा

=> पुनरावृत्ति का सिद्धांत —— स्टेनले हॉल

=> अधिगम सोपानकी के प्रतिपादक ——- गेने

=> विकास के सामाजिक प्रवर्तक ——- एरिक्सन

=> प्रोजेक्ट प्रणाली से करके सीखना का सिद्धांत ——- जान ड्यूवी

=> अधिगम मनोविज्ञान का जनक ——- एविग हास

http://www.theacademicpartner.wordpress.com

=> अधिगम अवस्थाओं के प्रतिपादक —–  जेरोम ब्रूनर

=> संरचनात्मक अधिगम का सिद्धांत —— जेरोम ब्रूनर

=> सामान्यीकरण का सिद्धांत —– सी. एच. जड

=> शक्ति मनोविज्ञान का जनक ——  वॉल्फ

=> अधिगम अंतरण का मूल्यों के अभिज्ञान का सिद्धांत —— बगले

=> भाषा विकास का सिद्धांत —— चोमस्की

=> माँग-पूर्ति ( आवश्यकता पदानुक्रम ) का सिद्धांत —- मैस्लो (मास्लो)

=> स्व-यथार्थीकरण अभिप्रेरणा का सिद्धांत —— मैस्लो (मास्लो)

=> आत्मज्ञान का सिद्धांत —— मैस्लो (मास्लो)

http://www.facebook.com/caac00007

=> उपलब्धि अभिप्रेरणा का सिद्धांत —— डेविड सी.मेक्लिएंड

=> प्रोत्साहन का सिद्धांत —— बोल्स व काफमैन

=> शील गुण(विशेषक) सिद्धांत के प्रतिपादक ——  आलपोर्ट

=> व्यक्तित्व मापन का माँग का सिद्धांत —— हेनरी मुरे

=> कथानक बोध परीक्षण विधि के प्रतिपादक —— मोर्गन व मुरे

http://www.facebook.com/caac00007

=> प्रासंगिक अन्तर्बोध परीक्षण (T.A.T.) विधि के प्रतिपादक ——– मोर्गन व मुरे

=> बाल -अन्तर्बोध परीक्षण (C.A.T.) विधि के प्रतिपादक —— लियोपोल्ड बैलक

=> रोर्शा स्याही ध्ब्बा परीक्षण (I.B.T.) विधि के प्रतिपादक ——- हरमन रोर्शा

=> वाक्य पूर्ति परीक्षण (S.C.T.) विधि के प्रतिपादक ——- पाईन व टेंडलर

=> व्यवहार परीक्षण विधि के प्रतिपादक —– मे एवं हार्टशार्न

=> किंडरगार्टन(बालोद्यान ) विधि के प्रतिपादक —— फ्रोबेल

=> खेल प्रणाली के जन्मदाता ——- फ्रोबेल

http://www.facebook.com/caac00007

=> मनोविश्लेषण विधि के जन्मदाता ——– सिगमंड फ्रायड

=> स्वप्न विश्लेषण विधि के प्रतिपादक —– सिगमंड फ्रायड

=> प्रोजेक्ट विधि के प्रतिपादक —— विलियम हेनरी क्लिपेट्रिक

=> मापनी भेदक विधि के प्रतिपादक —– एडवर्ड्स व क्लिपेट्रिक

=> डाल्टन विधि की प्रतिपादक —— मिस हेलेन पार्कहर्स्ट

=> मांटेसरी विधि की प्रतिपादक —— मेडम मारिया मांटेसरी

=> डेक्रोली विधि के प्रतिपादक ——- ओविड डेक्रोली

=> विनेटिका(इकाई) विधि के प्रतिपादक ——- कार्लटन वाशबर्न

http://www.facebook.com/caac00007

=> ह्यूरिस्टिक विधि के प्रतिपादक —— एच. ई. आर्मस्ट्रांग

=> समाजमिति विधि के प्रतिपादक —— जे. एल. मोरेनो

=> योग निर्धारण विधि के प्रतिपादक ——- लिकर्ट

=> स्केलोग्राम विधि के प्रतिपादक —— गटमैन

=> विभेद शाब्दिक विधि के प्रतिपादक ——- आसगुड

=> स्वतंत्र शब्द साहचर्य परीक्षण विधि के प्रतिपादक —–  फ़्रांसिस गाल्टन

=> स्टेनफोर्ड- बिने स्केल परीक्षण के प्रतिपादक —– टरमन

=> पोरटियस भूल-भुलैया परीक्षण के प्रतिपादक —- एस.डी. पोरटियस

http://www.facebook.com/caac00007

=> वेश्लर-वेल्यूब बुद्धि परीक्षण के प्रतिपादक —— डी.वेश्लवर

=> आर्मी अल्फा परीक्षण के प्रतिपादक ——- आर्थर एस. ओटिस

=> आर्मी बिटा परीक्षण के प्रतिपादक —– आर्थर एस. ओटिस

=> हिन्दुस्तानी बिने क्रिया परीक्षण के प्रतिपादक —–  सी.एच.राइस

=> प्राथमिक वर्गीकरण परीक्षण के प्रतिपादक —– जे. मनरो

=> बाल अपराध विज्ञान का जनक —— सीजर लोम्ब्रसो

=> वंश सुत्र के नियम के प्रतिपादक ——- मैंडल

http://www.facebook.com/caac00007

=> ब्रेल लिपि के प्रतिपादक ——– लुई ब्रेल

=> साहचर्य सिद्धांत के प्रतिपादक ——– एलेक्जेंडर बैन

=> “सीखने के लिए सीखना” सिद्धांत के प्रतिपादक ——– हर्लो

=> शरीर रचना का सिद्धांत ———  शैल्डन

=> व्यक्तित्व मापन के जीव सिद्धांत के प्रतिपादक ———- गोल्डस्टीन

Posted in CBSE, Education System, Important Links, Mathematics

Allocation of Marks to the Units of Curriculum of Class – IX (2015-16),

CBSE/ACAD/JS&IC(A&T)/2015 Date: 22.09.2015 Circular no. 63

Subject: Curriculum of subject Mathematics (041) for class IX (session 2015-16).

Curriculum of subject Mathematics (041) for class IX, the following shall be applicable for the session 2015-16.

Allocation of marks to the Units of Curriculum of Class – IX (2015-16),

Second Term Units Marks

II ALGEBRA (Contd.)              10

III GEOMETRY (Contd.)         38

V MENSURATION (Contd.)    22

VI STATISTICS                       12

VII PROBABILITY                    08

Total (Theory)                         90

It is requested that the same may be circulated to students.

CBSE Class IX Maths

TOI: Class X boards may again be must for CBSE

Class X boards may again be must for CBSE

Affirmative..

We must do this.
In last 5 years we have ruined future of 90% of students. Many schools(app.80%) instead of giving good learning environment, use dirty tricks to keep their results good so that they can get good admissions in next session.
Students are sure about their good grades because of such practices in schools.
What about the future.. who care..??

http://toi.in/tv1OrZ